प. पू. आचार्य श्री जनार्दन महाराज की वेबसाइट पर आपका सहर्ष स्वागत है
♦ सतपंथ समप्रदाय का उदय ♦

सूरज, चन्द्रमा, तारे, गृह, नक्षत्र एवं पृथ्वी का भी नाही था आस्तित्व | एक अविनाशी सत-चित आनंद स्वरुप ध्यानमें लीं अनंत चैतन्य स्वरुप प्रकश छाया था | अनादी प्रकृति, सत्वरजात्मक मायाशक्ति निर्माण से पंच महाभूतो, पंचप्राणों, पंचज्ञानेन्द्रियो, पंचकर्मेन्द्रियो प्रक्रुतियोंका उगम हुआ और निर्माण हुआ समष्टि, याने सृष्टि और व्यष्टि याने प्राणपिंड का | यही है सूक्ष्म सत आत्मा स्थूल जगत का सत्य आधार | और यही अविनाशी अमर सत तत्वोंको जाननेका एवं आचरण करने का मार्ग है "सत्पंथ" |

ॐ नमो श्री निष्कलंकी नारायणय जनादॅनाय, भस्मा यूधाय विद् महे दिव्य नैत्राय धिमही, तन्नो ज्वरहर प्रचोदयात-तन्नो ज्वरहर प्रचोदयात ॐ शांतिः शांतिः शांतिः     


Website Designed & Developed By - JIYAL CHAUDHARI(MUMBAI) - 08976882324
hit counter